मैनपुर बाजार व्यवस्थित करने पहुंचे तहसीलदार जौली जेम्स

 doinfo मैनपुर। सोमवार को मैनुपर बाजार में 4-5 एकड़ जमीन पर कब्जा की खबर छपते ही हड़कम मच गया। इसकी जानकारी जिला प्रशासन को होते ही एक्शन में आ गई। बाजार की जगह को कुछ रहवासी घर बना चुके हैं जिसकी जांच जारी है लेकिन सुबह से ही चर्चा में रही नवभारत खबर की असर तत्काल हुआ।


अवैध कब्जे की खबर छपते ही एक्शन में आया प्रशासन


मैनपुर तहसीलदार जौली जेम्स नायब तहसीलदार तारेण ठाकुर पटवारी मौरिया भूषण कोटवार सहित अन्य राजस्व कर्मचारी जांच के लिए पहुंचे थे। रिकॉर्ड में बताया जा रहा है कि 36 आरए 90 डिसमिल ही है लेकिन पुराने रिकॉर्ड को खंगाल जाएगा तो बाजार की पूरा एरिया पुराने रिकॉर्ड अनुसार सीमांकन के लिए नोटिस जारी की जाएगी। बाजार को रोड पर बैठने नहीं दिया जाएगा। किसी तरह की अप्रिय घटना से बचने के लिए अतिक्रमणकारियों पर कार्यवाही कर बाजार की समुचित व्यवस्था की जाएगी।


मैनपुर बाजार की 4-5 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा


- जौली जेम्स, तहसीलदार मैनपुर

लोगों के द्वारा बताया जा रहा है कि पटवारी के द्वारा मिलीभगत करके बाजार की जमीन को अन्य लोगों के नाम में पट्टे बना दिया गया है जिसके कारण नया रिकॉर्ड में जगह सामने नहीं आ रहा है। यदि पुराने रिकॉर्ड की दुरुस्त कर जांच करते हैं तो बाजार की लगभग चार से पांच एकड़ जमीन सामने आ सकता है।




पुराने रिकॉर्ड के अनुसार सीमांकन के लिए नोटिस जारी की जाएगी 


वहीं मैनपुर बाजार की जमीन इधर-उधर काबिज हो चुका है। पुराने रिकॉर्ड से ही पता चलेगा। नए रिकॉर्ड के अनुसार, पुराने

रिकॉर्ड को नहीं देखते हैं इसके कारण जांच ठंडा वस्ते में चला जाता है। सूक्ष्म जांच नहीं हो पाता है। आए दिन अतिक्रमण का मामला सामने आता है। यदि पुराने रिकॉर्ड को खंगाल करके रकबा, खसरा री नंबरिंग देखा जाए तो दूध का दूध पानी का पानी हो सकता है लेकिन ऐसा अब तक नहीं हुआ है। अब लोगों में उम्मीद जगी है कि गरियाबंद जिलाधीश दीपक अग्रवाल, एसडीएम मैनपुर तुलसी मरकाम, तहसीलदार मैनपुर जौली जेम्स के द्वारा पुराने रिकॉर्ड से सीमांकन करवा करके बाजार को समुचित व्यवस्था कर सकते हैं। ऐसा व्यापारियों एवं रहवासीयों में उम्मीद जगी हुई है।