छत्तीसगढ़ में होली त्यौहार रंग-बिरंगे गुलाल एवं पिचकारी से सजी छत्तीसगढ़ की बाजार|holi tyohar 2020,2020 ki holi,2020 ki holi date,holi festival images|holi festival india|holi festival in hindi

holi tyohar 2020,2020 ki holi,2020 ki holi date,holi festival images,best images of holi,happy holi images hot holi pictures,holi festival india,holi festival of colors,holi festival 2020,holi festival essay,holi essay in english 10 lines,holi festival in 2020,holi festival in hindi,
happy holi images hot holi pictures,holi festival india,holi festival of colors,holi festival 2020,holi festival essay,holi essay in english 10 lines,holi festival in 2020,holi festival in hindi,
holi festival images
छत्तीसगढ़ । होली त्यौहार (holi festival) छत्तीसगढ़ का प्रमुख त्योहारों में से एक है यह त्यौहार (holi tihar) छत्तीसगढ़ का साल का आखरी त्यौहार माना जाता है।
Holi tyohar होली त्यौहार को लोग रंग-बिरंगे रंगो का खेल माना जाता है हम आपको होली त्यौहार की सारगर्भित तथ्य एवं इतिहास के बारे में अंत में बताएंगे। आप सभी को पता है की यह त्यौहार फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष पहला तिथि को मनाया जाने वाला पर्व है फाल्गुन मास की पूर्णिमा को होलिका दहन किया जाता है।
होली त्यौहार (holi festival) को पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है यह त्यौहार एक मनमोहक त्यौहार है लोग इस दिन सभी दुख गम को भुला कर एक दूसरे के घर जाकर रंग गुलाल से स्वागत करते हैं एक दूसरे को रंगों से रंगकर लोग आनंद मनाते हैं।
holi festival in 2020,holi tyohar 2020 |holi festival kab hai
इस वर्ष होली त्यौहार 10 मार्च 2020 दिन मंगलवार फाल्गुन कृष्ण पक्ष पहला तिथि को मनाया जाएगा। तथा फाल्गुन पूर्णिमा 9 मार्च दिन सोमवार को होलिका दहन किया जाएगा।
holi festival india
भारत में लोग होली त्यौहार को बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं लोग वर्षों की आपसी दुश्मनी या वैर भाव को भूलकर एक दूसरे से गले मिलते हैं और रंग गुलाल से स्वागत कर खुशियां मनाते हैं आज की आधुनिक युग में बाजार में कई तरह की रंग गुलाल एवं पिचकारी बिकते हैं।
रंग गुलाल से खतरा
आधुनिक युग में केमिकल का उपयोग होना आम बात हो चुकी है यहां तक कि खाने-पीने की चीजों में भी केमिकल का उपयोग अत्यधिक मात्रा में हो रही है जाहिर सी बात है कि मार्केट में बिकने वाली अनेकों प्रकार की रंग एवं गुलाल केमिकल से बनी हुई होती हैं जिसे लोग उपयोग कर अपनी त्वचा से खिलवाड़ कर रहे हैं। कई बार रंग एवं गुलाल आंख कान एवं नाक के माध्यम से शरीर की आंतरिक अंगों में चली जाती है जिसके वजह से बहुत बड़ी हानि उठानी पड़ सकती है यह केमिकल युक्त रंग गुलाल व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है।
होली त्यौहार कैसे मनाए
होली त्यौहार एक सात्विक पर्व है यह त्यौहार (holi festival) धार्मिक दृष्टिकोण से भी बहुत ही महत्वपूर्ण है फाल्गुन मास में चारों ओर क्लास के पौधों में फूल खिल उठते हैं और वातावरण मनमोहक सा हो जाता है बसंत ऋतु के बाद यह वातावरण लोगों के लिए बड़ा ही खुशहाली का बाहर लेकर आता है। बाजार की रंग गुलाल की बजाए क्लास के पुष्प के रंग से होली त्यौहार मनाया जाना बहुत ही लाभदायक है पलाश की पुष्प को गर्म पानी में डालकर नीचोड़ने से बहुत ही अच्छा रंग बन जाता है यह रंग शुद्ध और सात्विक होती है जो की त्वचा में कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होती बल्कि यह रंग व्यक्ति की त्वचा को निखारने में अहम भूमिका निभाती हैं।
holi festival history होली त्यौहार का इतिहास
होली भारत का एक प्राचीन त्योहार है और मूल रूप से 'होलिका' के रूप में जाना जाता था।  त्योहारों का प्रारंभिक धार्मिक कार्यों में विस्तृत वर्णन मिलता है जैसे कि जैमिनी का पुरवामीमांसा-सूत्र और कथक-ग्रह्य-सूत्र।  इतिहासकार यह भी मानते हैं कि होली सभी आर्यों द्वारा मनाई गई थी, लेकिन भारत के पूर्वी हिस्से में ऐसा बहुत कुछ था।
 ऐसा कहा जाता है कि होली ईसा से कई शताब्दी पहले अस्तित्व में थी।  हालांकि, माना जाता है कि त्योहार का अर्थ वर्षों से बदल गया है।  पहले यह विवाहित महिलाओं द्वारा उनके परिवारों की खुशियों और खुशहाली के लिए किया जाने वाला एक विशेष अनुष्ठान था और पूर्णिमा (राका) की पूजा की जाती थी।
वेदों और पुराणों जैसे नारद पुराण और भाव पुराण में विस्तृत विवरण होने के अलावा, होली के त्योहार का जैमिनी मीमांसा में उल्लेख मिलता है।  विंध्य प्रांत के रामगढ़ में पाए गए 300 ईसा पूर्व के एक पत्थर के उत्थान ने इस पर होलिकोत्सव का उल्लेख किया है।  राजा हर्ष ने भी अपने काम रत्नावली में होलिकोत्सव के बारे में उल्लेख किया है जो 7 वीं शताब्दी के दौरान लिखा गया था।
 प्रसिद्ध मुस्लिम पर्यटक - उलबरूनी ने भी अपनी ऐतिहासिक यादों में होलिकोत्सव के बारे में उल्लेख किया है।  उस दौर के अन्य मुस्लिम लेखकों ने उल्लेख किया है कि होलिकोत्सव केवल हिंदुओं द्वारा ही नहीं बल्कि मुसलमानों द्वारा भी मनाया जाता था।
Tags
holi tyohar 2020,2020 ki holi,2020 ki holi date,holi festival images,best images of holi,happy holi images hot holi pictures,holi festival india,holi festival of colors,holi festival 2020,holi festival essay,holi essay in english 10 lines,holi festival in 2020,holi festival in hindi,