Saturday, 7 September 2019

कहीं सड़क की पुल टूटा तो कहीं किसानों की आंसू फूटा,konari pool break,heavy rain in chhattisgarh,fasal bima

छत्तीसगढ़ में हो रही जोरो की वर्षा लोगों की जीना हुई दूभर, भारी वर्षा से जनजीवन अस्त-व्यस्त हुई,heavy rain in raipur

heavy rain in chhattisgarhh,insurance agriculture,agriculture insurance,
broken pool konari
heavy rain in chhattisgarhh,insurance agriculture,agriculture insurance,
heavy rain in chhattisgarhh, विभिन्न गांव की तस्वीरें

   बीते शनिवार दिनांक 07/ 09/ 2019 से लगातार मूसलाधार बारिश होने की वजह से छत्तीसगढ़ में आम लोगों की जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गई है, कहीं सड़कों की पुल टूट गई तो वही खेतों एवं खदानों में फसल पूरी तरह चौपट हो गई, क्योंकि शनिवार सुबह से ही लगातार मूसलाधार बारिश होने के कारण से लोग घर से निकल नहीं पा रहे हैं,और खेत खलिहान में जल स्तर इतना बड़ी हुई है कि फसल एवं खेतों की मेड़ तक दिखाई नहीं दे रहा किसान ज्यादा चिंतित में है।

konari pool break ग्राम कोनारी पूल 
आपको बता दें कि शनिवार सुबह से भारी मात्रा में बारिश होने के कारण मैनपुर ब्लॉक मुख्यालय से 8 किलोमीटर दूर स्थित ग्राम पंचायत तूहामेटा आश्रित ग्राम कोनारी की सड़क पर जाम नाला पर 4 वर्ष पूर्व बनी पुल पानी की तेज बहाव के कारण टूट गई है।
    आपको बता दें कि ग्राम कोनारी से तहसील मुख्यालय की ओर जाने वाली सड़क एक ही सड़क है, इसके अलावा जाने की और कोई रास्ता नहीं है, बारिश की इतनी अधिक मात्रा इस वर्ष और पहले नहीं हुई थी, पुल के ऊपर पानी बह रहा था इसी वजह से पुल टूट गया है, यदि इस को समय रहते मरम्मत नहीं किया गया तो यातायात संभव ही नहीं है लोग ब्लॉक मुख्यालय से कटे ही रहेंगे एवं खाने पीने की सामान के लिए भी दिक्कतें हो सकती है।
किसानों की चिंता बढ़ी,heavy rain in chhattisgarh
    छत्तीसगढ़ में किसान सबसे ज्यादा चिंतित है क्योंकि इतनी अधिक मात्रा में बारिश होने के वजह से फसल बर्बाद हो चुका है क्योंकि किसानों की क्षेत्र कहीं गड्ढे तो कहीं नदी नाले के रूप में परिवर्तित हो चुका है तो कहीं रेत और मिट्टी पूरी फसल को ढक चुका है।
Live video देखें 👇

यह भी पढ़ें.....
बीमा कंपनी किसानों को लूट रही,pradhan mantri fasal bima yojana 2019,insurance agriculture,agriculture insurance
   बीमा कंपनी किसानों को फसल बीमा के नाम पर लुटती जा रही है क्योंकि प्रतिवर्ष किसानों की फसल की बीमा होती है परंतु किसानों को उचित मात्रा में बीमा की राशि नहीं मिल पाती। प्रतिवर्ष कहीं ना कहीं किसी न किसी किसान की फसल की नुकसान होती ही रहती है परंतु बीमा कंपनी इस पर ध्यान ही नहीं देती नहीं कभी जांच करती है और केवल जिला स्तर पर या ब्लॉक स्तर पर फसल नुकसान की औसत निकाल कर वह किसानों की बीमा लागू नहीं करती एवं राशि नहीं देती है, या फिर वर्षा की प्रतिशत या अवसर पर बीमा लागू करती है।
 यह भी पढ़ें...
    जबकि भारी वर्षा होने के वजह से भी फसल के नुकसान होती है अथवा कीट प्रकोप बीमारी की वजह से भी फसल की नुकसान होती है, परंतु इन पर बीमा कंपनी कि कोई संवेदनशीलता नहीं है, तथा वह इन वजहों से कोई नुकसान पर बीमा राशि प्रदाय नहीं करती, जबकि बीमा कंपनी की बीमा पॉलिसी यह है कि किसी एक किसान का भी फसल किसी भी वजह से नुकसान होता है तो उस किसान का जितना फसल नुकसान हुआ हो उसकी एवज राशि प्रदान करता है।
परंतु बीमा कंपनी एक औसत निकाल कर ही बीमा की मापदंड तय कर देती है जिससे पीड़ित किसान को बीमा की राशि नहीं मिल पाती, इस प्रकार से बीमा कंपनी किसानों को लगातार फसल बीमा के नाम पर लूट रही है।
इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, ताकि शासन-प्रशासन तक यह बात पहुंच सके और बीमा कंपनी पर लगाम कसी जा सके।

Tags.
heavy rain in chhattisgarhh,eavy rain in Indiah,eavy rain in raipurf,asal bimap,radhan mantri fasal bima yojana 2019p,mfby 2019,insurance agriculture,agriculture insurance,broken pool,broken pool in konari,konari pool break,doinfo.in