Monday, 8 July 2019

छत्तीसगढ़ में मनाया जा रहा है माता पहुंचानी का पर्व || sheetla mata festival 2019

छत्तीसगढ़ में मनाया जा रहा है माता पहुंचानी का पर्व

 आज लगेगी माता के मंदिर में भीड़

chhattisgarh ka tyohar माता पहुंचानी

mata pahuchani festival
माता पहुंचानी का पर्व आदि काल से मनाया जा रहा है मुख्यतः यह पर्व छोटे गांवों एवं कस्बों में मनाया जाने वाला पर्व है जो कि इस पर्व में शीतला मंदिर में प्रसाद के रूप में लाई एवं रोटी चढ़ाकर माता को प्रसन्न किया जाता है इसमें किसी भी जाति वर्ग का भेदभाव नहीं है इसमें महिला पुरुष और बच्चे सभी शामिल होते हैं,
doinfo.in
इस पर्व की एक और खास बात है कि अपनी ससुराल गई हुई बेटी को बुलाकर इस पर्व में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाता है जिसमें अपनी बेटी के साथ उनके दमान (जमाई) भी परिवार के साथ आते हैं ,
      माता पहुंचानी का पर्व शीतला मां को प्रसन्न करने के लिए मनाया जाता है शीतला देवी के प्रसन्न होने से गांव में शांति रहती है रोग व्याधि का प्रकोप से बचने के लिए देवी को प्रसन्न करने का यह पर्व मनाया जाता है,
 festival of chhattisgarh
sheetla mata festival 2019

         शीतला देवी को माता पहुंचाने पर्व में उसके मंदिर में सभी लोग जाकर प्रसाद के रूप में चावल के द्वारा बने हुए लाई एवं चावल से बनी हुई रोटी तथा दूध एवं नींबू का प्रसाद चढ़ाकर भोग लगाया जाता है माना जाता है कि शीतला माता की प्रसन्न होने से गांव की सभी देवी देवता प्रसन्न होते हैं एवं गांव में शांति व्यवस्था अच्छी होती है,

           गांव के लोगों का मानना यह भी है कि गांव में जब चेचक(फोड़ा-फुंसियां) वाली बीमारी होती है तो सबसे पहले शीतला मंदिर में ही जाकर गांव की मुखिया झांकर-पुजारी के द्वारा   अनुनय-वंदन किया जाता है एवं ठंडाई के रूप में दूध एवं नींबू का भोग लगाकर मनौती किया जाता है जिससे उक्त रोग शांत होती है,
        इस पर्व को मुख्यतः रथ द्वितीय रथ यात्रा पर्व के बाद ही मनाया जाता है जो कि अलग-अलग गांव में सप्ताह की फर्क होती है।

DoinFoNews



captain_jack_sparrow___vectorडू ईंफो न्यूज (doinfo news) एक सरल और निष्पक्ष पोर्टल होने का वादा करता है, जहां पाठकों को सबसे अच्छी जानकारी, हाल के तथ्यों राजनीतिक और मनोरंजक समाचार मिलती हैं। इस समाचार पोर्टल के माध्यम से हम निष्पक्षता से हर ताज़ा खबरों से अपने पाठकों को अवगत कराते हैं।
Learn More →

Contact Us

Name

Email *

Message *